एकाग्रता का रहस्य - स्वामी विवेकानन्द Ekagrata Ka Rahasya - Hindi book by - Swami Vivekanand
लोगों की राय

व्यवहारिक मार्गदर्शिका >> एकाग्रता का रहस्य

एकाग्रता का रहस्य

स्वामी विवेकानन्द


E-book On successful payment file download link will be available
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :31
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9561
आईएसबीएन :9781613012567

Like this Hindi book 4 पाठकों को प्रिय

410 पाठक हैं

एकाग्रता ही सभी प्रकार के ज्ञान की नींव है, इसके बिना कुछ भी करना सम्भव नहीं है।

एकाग्रता का रहस्य

 

 

एकाग्रता ही सभी प्रकार के ज्ञान की नींव है, इसके बिना कुछ भी करना सम्भव नहीं है। ज्ञानार्जन के लिए किस प्रकार मन को एकाग्र करना चाहिए इसका दिग्दर्शन इस पुस्तिका में किया गया है।

एकाग्र मन एक सर्च लाइट के समान है। सर्चलाइट हमें दूर तथा अँधेरे कोनों में पड़ी वस्तुओं को भी देखने में समर्थ बनाता है।

एकाग्रता में ही सफलता का रहस्य निहित है – इस बात को समझ लेने वाले सचमुच ही बुद्धिमान हैं। एकाग्रता को केवल योगियों के लिए ही आवश्यक समझना एक बड़ी भूल है। एकाग्रता प्रत्येक व्यक्ति के लिए आवश्यक है, भले ही वह किसी भी कार्य में क्यों न लगा हो। देखने में आता है कि लौहकारों, नाइयों, स्वर्णकारों तथा जुलाहों में सहज रूप से ही एकाग्रता विकसित हो जाती है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book