कटी पतंग - गुलशन नन्दा Kati Patang - Hindi book by - Gulshan Nanda
लोगों की राय

उपन्यास >> कटी पतंग

कटी पतंग

गुलशन नन्दा


E-book On successful payment file download link will be available
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :427
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9582
आईएसबीएन :9781613015551

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

38 पाठक हैं

एक ऐसी लड़की की जिसे पहले तो उसके प्यार ने धोखा दिया और फिर नियति ने।

'कटी पतंग' बड़ी ही विचित्र और नाजुक परिस्थितियों में घिरी एक सुन्दर युवती की कहानी है, जिसके बारे में स्वयं लेखक का कहना है कि इसे एक बार शुरू करके आप समाप्त किये बिना नहीं रह सकते !

कटी पतंग

1


''थोड़ी-सी और-बस दो घूंट!"

''ऊंहूं!, ज्यादा न सताओ बनवारी।"

''जिद न करो शबनम! देखो ना, गले की सारी रगें सूख रही हैं। पूरे बदन में खलबली-सी मच रही है।''

''आग से आग नहीं लगेगी तो और क्या होगा! अच्छा, मैं चली।''

''शिब्बू! मेरी शिब्बू। रूठ गईं क्या?"

''जब तुम अपनी शबनम को आग के पास रखोगे तो-तो उसका विनाश होगा ही!"

शबनम की इस भावात्मक बात पर बनवारी हंस पड़ा। उसने उसे खींचकर बिस्तर पर डाल दिया और गुदगुदाने लगा। वह बेचारी फुसफुसी-सी हंसी के साथ बिस्तर में मचलकर रह गई। कुछ अधिक तंग करने पर अपने-आपको छुड़ाने के लिए बनवारी की नंगी पीठ में काट लिया। बनवारी की हंसी एक हल्की-सी कराह में बदलकर रह गई।

कमरे के अंधकार में इन खुसर-फुसर की आवाज़ों को सहसा किसी आहट ने दबा दिया। उखड़ी हुई सांसें कुछ क्षण के लिए रुक गईं। लकड़ी की सीढ़ियों से किसी के कदमों की चाप उस कमरे की ओर बढ़ती आ रही थी।

आगे....

प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book