Ujla Savera - Hindi book by - Naval Pal Prabhakar - उजला सवेरा - नवलपाल प्रभाकर
लोगों की राय

कविता संग्रह >> उजला सवेरा

उजला सवेरा

नवलपाल प्रभाकर

प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :96
मुखपृष्ठ : Ebook
पुस्तक क्रमांक : 9605
आईएसबीएन :9781613015919

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

26 पाठक हैं

आज की पीढ़ी को प्रेरणा देने वाली कविताएँ

 

आओ प्रिये

आज की सांझ है कितनी प्यारी
नजरें तकती है राहें तुम्हारी
आ ही जाओ मेरी प्रियतमा
धरती ने बिछाई है हरियाली।

मेघ बरसते हैं छम-छम
जो आग लगाते  है तन में
ऐसी सुन्दर वाटिका खिली है
चारों तरफ  महकी है फुलवारी।
आ ही जाओ मेरी प्रियतमा
धरती ने बिछाई है हरियाली।

तेरे आने से मेरी प्रियतमा
इन पर आयेगी और बहार
महक उठेंगे फिर से फूल ये
खो चुके हैं सुगन्ध जो सारी।
आ ही जाओ मेरी प्रियतमा
धरती ने बिछाई है हरियाली।

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book