Yaaden - Hindi book by - Naval Pal Prabhakar - यादें - नवलपाल प्रभाकर
लोगों की राय

कविता संग्रह >> यादें

यादें

नवलपाल प्रभाकर

प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :136
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9607
आईएसबीएन :9781613015933

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

31 पाठक हैं

बचपन की यादें आती हैं चली जाती हैं पर इस कोरे दिल पर अमिट छाप छोड़ जाती हैं।



बारिश


उदक फुदक-फुदक कर ,
छन-छन-छनकता हुआ,
मेघों के पारभाषी आँचल से
टपक-टपक-टपक रहा।

तरूवर चुप खड़े निढाल से
फु नगियों को अंदर मुंदे हुए
मोती सा धरती पर गिरता
छप की ध्वनि कर रहा।
मेघों के पारभाषी आँचल से
टपक-टपक-टपक रहा।

चमकीली दमकीली यामिनी
नवल धवल स्वच्छ चांदनी
नौका रूपी मेघों के मध्य
तड़-तड़ कौंधती हैं बिजलियां
मेघों के पारभाषी आँचल से
टपक-टपक-टपक रहा।                

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book