Yaaden - Hindi book by - Naval Pal Prabhakar - यादें - नवलपाल प्रभाकर
लोगों की राय

कविता संग्रह >> यादें

यादें

नवलपाल प्रभाकर

प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :136
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9607
आईएसबीएन :9781613015933

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

31 पाठक हैं

बचपन की यादें आती हैं चली जाती हैं पर इस कोरे दिल पर अमिट छाप छोड़ जाती हैं।



बचपना


जब याद आता है बचपना
मन भरने लगता है उडारी
चेहरा हो जाता खिला-खिला।

आँखों में वो शरारती भाव
देह सुडौल हाव-भाव नटखट
करके ऊंची गर्दन चलना
हर काम करते थे झटपट
शरीर होता था तना-तना।

जब याद आता है बचपना
मन भरने लगता है उडारी
चेहरा हो जाता है खिला-खिला।

जब होता सर्दी का मौसम
जलाते उपले बीच आँगन
हाथ सेंकते बैठ चारों ओर
मन खुशी से होता प्रसन्न
शकरकंद भूनते आग जला।

जब याद आता है बचपना
मन भरने लगता है उडारी
चेहरा हो जाता है खिला-खिला।

गर्मी की तपती दोपहरी में,
जाते गाँव के बाहर उपवन में
आँख मिचने का ढोंग रचाकर
पैर दबा चुपके से निकलते
अपने घर वालों को सुला।

जब याद आता है बचपना
मन भरने लगता है उडारी
चेहरा हो जाता है खिला-खिला।

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book