Yaaden - Hindi book by - Naval Pal Prabhakar - यादें - नवलपाल प्रभाकर
लोगों की राय

कविता संग्रह >> यादें

यादें

नवलपाल प्रभाकर

प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :136
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9607
आईएसबीएन :9781613015933

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

31 पाठक हैं

बचपन की यादें आती हैं चली जाती हैं पर इस कोरे दिल पर अमिट छाप छोड़ जाती हैं।



मेरा घर


हरी भरी हरियाली
फैली हो मेरे आँगन में।
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में।

ना कहीं प्रदूषण हो
ना कहीं पर शोर हो
बस हरियाली ही हरियाली
मेरे चारों और हो

तभी तो जीना, जीना होगा
वरना बेहतर है मर जाने में।
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में।

प्रकृति की सुन्दर वस्तुएं
और सारी सुखमय चीजें
खाने पीने की सारी सुविधा
बस छोटे से घर में हो मेरे

चारों तरफ पहाड़ हों मेरे
घर बना हो तलहटी में
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में।

या फिर मेरे घर के अन्दर
समस्त समुंद्र हों सारे
सारी उसमें नदियाँ हों
आसमान के हों तारे।

समुंद्र के मध्य का टापू
बस हो मेरे आँगन में।
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में।

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book