गायत्री पंचमुखी और एकमुखी - श्रीराम शर्मा आचार्य Gayatri Panchmukhi Aur Ekmukhi - Hindi book by - Sriram Sharma Acharya
लोगों की राय

आचार्य श्रीराम शर्मा >> गायत्री पंचमुखी और एकमुखी

गायत्री पंचमुखी और एकमुखी

श्रीराम शर्मा आचार्य

प्रकाशक : युग निर्माण योजना गायत्री तपोभूमि प्रकाशित वर्ष : 2020
पृष्ठ :60
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 15488
आईएसबीएन :00000

Like this Hindi book 0

गायत्री की पंचमुखी और एकमुखी स्वरूप का निरूपण

Gayatri Panchmukhi aur Ekmukhi - a Hindi book by Sriram Sharma Acharya

गायत्री के पंचमुखी चित्रों एवं पंचमुखी प्रतिमाओं का प्रचलन इसी प्रयोजन के लिए है कि इस महामंत्र की साधना का अवलम्बन करने वालों को यह विदित रहे कि हमें आगे चलकर क्या करना है? जप, ध्यान, स्तोत्रपाठ, पूजन, हवन यह आरम्भिक क्रिया-कृत्य हैं। इनसे शरीर की शुद्धि और मन की एकाग्रता का प्रारम्भिक प्रयोजन पूरा होता है। इससे अगली मंजिलें कड़ी हैं। उनकी पूर्ति के लिए साधक को जानकारी प्राप्त करनी चाहिए और उस मार्ग पर चलने के लिए आवश्यक तत्परता, दृढ़ता एवं क्षमता का सम्पादन करना चाहिए। इतना स्मरण, यदि साधक रख सका, तो समझना चाहिए कि उसने गायत्री पंचमुखी चित्रण का प्रयोजन ठीक तरह से समझ लिया।

गायत्री पंचमुखी और एकमुखी

अनुक्रम


आगे....


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book