चन्द्रकान्ता सन्तति - 4 - देवकीनन्दन खत्री Chandrakanta Santati - 4 - Hindi book by - Devkinandan Khatri
लोगों की राय

मूल्य रहित पुस्तकें >> चन्द्रकान्ता सन्तति - 4

चन्द्रकान्ता सन्तति - 4

देवकीनन्दन खत्री

Download Book
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :256
मुखपृष्ठ : ई-पुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 8402
आईएसबीएन :978-1-61301-029-7

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

354 पाठक हैं

चन्द्रकान्ता सन्तति - 4 का ई-पुस्तक संस्करण...

तीसरा बयान


दारोगा की सूरत देखते ही मेरी और अन्ना की जान सूख गयी, और हम दोनों को विश्वास हो गया कि पण्डित जी ने हम लोगों के साथ दगा की। उस समय जान देने के और मैं क्या कर सकती थी? इधर-उधर देखा पर जान देने का कोई जरिया दिखाई न पड़ा। अगर उस समय मेरे पास कोई हर्बा होता तो मैं जरूर अपने को मार डालती। दारोगा ने भी मुझे दूर से देखा और कदम बढ़ता हुआ हम दोनों के पास आ  पहुँचा। मारे क्रोध के उसकी आँखे लाल हो रही थीं, और होंठ काँप रहे थे। उसने अन्ना की तरफ देख कर कहा, ‘‘क्योंरी कमबख्त लौंड़ी, अब तू मेरे हाथ से बचकर कहाँ जायगी? यह सारा फसाद तेरा ही उठाया हुआ है, न तू दरवाजा खोलकर दुसरे कमरे में जाती न गदाधरसिंह को इस बात की खबर होती। तूने ही इन्दिरा को ले भागने की नीयत से मेरी जान आफत में डाली थी। अस्तु, अब मैं तेरी जान लिए बिना नहीं रह सकता, क्योंकि तुझपर मेरा बड़ा क्रोध है।’’

इतना कहकर दारोगा ने म्यान से तलवार निकाल ली और एक ही हाथ में बेचारी अन्ना का सर धड़ से अलग कर दिया, उसकी लाश तड़पने लगी और मैं चिल्लाकर उठ खड़ी हुई।

इतना हाल कहते-कहते इन्दिरा की आँखों में आँसू भर आये। इन्द्रजीतसिंह, आनन्दसिंह और राजा गोपालसिंह को भी उसकी अवस्था पर बड़ा दुःख हुआ और बेईमान नमक हराम दारोगा को क्रोध से याद करने लगे। तीनों भाइयों ने इन्दिरा को दिलासा दिया और चुप कराके अपने किस्सा पूरा करने के लिए कहा। इन्दिरा ने आँसू पोंछ कर कहना शुरू किया–

‘‘ उस समय मैं समझती थी कि दारोगा मेरी अन्ना को तो मार ही चुका है, अब उसी तलवार से मेरा भी सर काटकर बखेड़ा तै करेगा, मगर ऐसा न हुआ। उसने रूमाल से तलवार पोंछकर म्यान में रख ली और अपने नौकर के हाथ से चाबुक ले मेरे सामने आकर बोला, ‘अब बुला गदाधरसिंह को, आकर तेरी जान बचाये।’

इतना कह उसने मुझे उसी चाबुक से मारना शुरू किया। मैं मछली की तरह तड़प रही थी, लेकिन उसे कुछ भी दया नहीं आती थी और वह बार-बार यही कहकर चाबुक मारता था कि ‘अब बता मेरे कहे मुताबिक चीठी लिख देगी या नहीं’ पर मैं भी इस बात का दिल में निश्चय कर चुकी थी कि चाहे कैसी ही दुर्दशा से मेरी जान क्यों न ली जाये, मगर उसके कहे मुताबिक चीठी कदापि न लिखूँगी।

चाबुक की मार खाकर मैं जोर-जोर से चिल्लाने लगी। उसी समय एक औरत दाहिनी तरफ से दौड़ती हुई आयी, जिसने दारोगा से डपटकर कहा, ‘क्यों चाबुक मार-मारकर इस बेचारी की जान ले रहे हो? ऐसा करने से तुम्हारा मतलब कुछ भी न निकलेगा। तुम चाहते हो मुझे कहो, मैं बात-की-बात में तुम्हारा काम करा देती हूँ।’      

उस औरत की उम्र का पता बताना कठिन था, न तो कमसिन थी और न बूढ़ी ही थी, शायद तीस पैंतीस वर्ष की अवस्था हो या इससे कुछ कम ज्यादे हो। उसका रंग काला और बदन गठीला तथा मजबूत था, घुटने से नीचे तक का पायजामा और उसके ऊपर दक्षिणी ढंग की साड़ी पहिरे हुए थी, जिसकी लाँग पीछे की तरफ खुसी हुई थी। कमर में एक मोटा कपड़ा लपेटे हुए थी, जिसमें शायद कोई गठरी या और कोई चीज बँधी हुई हो।

उस औरत की बात सुनकर दारोगा ने चाबुक मारना बन्द किया और उसकी तरफ देखकर कहा, ‘तू कौन है?’

औरत : चाहे मैं कोई होऊँ इससे मतलब नहीं, तुम जो कुछ चाहते हो मुझसे कहो, मैं तुम्हारी ख्वाहिश पूरी कर दूँगी। चाबुक मारते समय जोकुछ तुम कहते हो, उससे मालूम होता है कि इस लड़की से तुम कुछ लिखाया चाहते हो! इससे जोकुछ लिखवाना हो मुझे बताओ, मैं लिखवा दूँगी, इस समय मारने पीटने से कोई काम न चलेगा, क्योंकि इसके एक पक्षपाती ने, जिसने अभी तुम्हारे आने की खबर दी थी, इसे समझा-बुझाके बहुत पक्का कर दिया है, और खुद (हाथ का इशारा करके) उस कूएँ में जा छिपा है, वह जरूर तुम पर वार करेगा। मेरे चलो साथ चलो, मैं दिखा दूँ। पहिले उसे दुरुस्त करो तब उसके बाद जो कुछ इस लड़की को कहोगे, वह झख मारके कर देगी, इसमें कोई सन्देह नहीं।

दारोगा : क्या तूने खुद आदमी को देखा था?

औरत : हाँ हाँ, कहती तो हूँ कि मेरे साथ उस कूएँ पर चलो मैं उस आदमी को दिखा देता हूँ। दस-बारह कदम पर कूआँ है कुछ दूर तो है नहीं।

दारोगा : अच्छा चलकर मुझे बताओ, (अपने दोनों आदमियों से) तुम दोनों इस लड़की के पास खड़े रहो।

वह औरत कूएँ की तरफ बढ़ी और दारोगा उसके पीछे-पीछे चला। वास्तव में वह कूआँ बहुत दूर न था। जब दारोगा को लिये हुए वह औरत कूएँ पर पहुँची तो अन्दर झाँककर बोली, ‘‘देखो वह छिपकर बैठा है।’

दारोगा ने ज्यों ही झाँककर कूएँ के अन्दर देखा, उस औरत ने पीछे से धक्का दिया और वह कमबख्त घड़ाम से कूएँ के अन्दर जा रहा। यह कैफियत उसके दोनों साथी दूर से देख रहे थे, और मैं भी देख रही थी। जब दारोगा के दोनों साथियों ने देखा कि उस औरत ने जान-बूझकर हमारे मालिक को कूएँ में ढकेल दिया है, तो दोनों आदमी तलवार खैंचकर उस औरत की तरफ दौड़े। जब पास पहुँचे तो वह औरत जोर से हँसी और एक तरफ को भाग चली। उन दोनों ने उसका पीछा किया मगर वह औरत दौड़ने में इतनी तेज थी कि वे दोनों उसे पा न सकते थे। उसी बागीचे के अन्दर वह औरत चक्कर लेने लगी और उन दोनों के हाथ न आयी। वह समय उन दोनों के लिए बड़ा ही कठिन था, वे दोनों इस बात को जरूर सोचते होंगे कि अगर अपने मालिक को बचाने की नियत से कूएँ पर जाते हैं, तो वह औरत भाग जायगी ताज्जुब नहीं कि उन्हें भी उसी कूएँ में ढकेल दे। आखिर जब उस औरत ने उन दोनों को खूब दौड़ाया तो उन दोनों ने आपुस में कुछ बात की और एक आदमी तो उस कूएँ की तरफ चला गया तथा दूसरे ने उस औरत का पीछा किया। जब उस औरत ने देखा कि अब दो में से एक ही रह गया तो वह खड़ी हो गयी और जमीन पर से ईंट का टुकड़ा उठाकर उस आदमी की तरफ जोर से फेंका। उस औरत का निशाना बहुत सच्चा था, जिससे वह आदमी बच न सका और ईंट का टुकड़ा इस जोर से सर में लगा कि सर फट गया और वह दोनों हाथों से सर पकड़कर जमीन पर बैठ गया, उस औरत ने पुनः दूसरी ईंट मारी, तीसरी मारी, और चौथी ईंट खाकर तो वह जमीन पर लेट गया।

उसी समय उसने खंजर निकाल लिया जो उसकी कमर में छिपा हुआ था और दौड़ती हुई उसके पास जाकर खञ्जर से उसका सर काट डाला, मैं यह तमाशा दूर से देख रही थी। जब वह एक आदमी को समाप्त कर चुकी तो उस दूसरे के पास आयी, जो कुएँ पर खड़ा अपने मालिक को निकलने की फिक्र कर रहा था। एक ईंट का टुकड़ा उसकी तरफ जोर से फेंका जो गरदन में लगा वह आदमी हाथ में नंगी तलवार लिये उस औरत पर झपटा, मगर उसे पा न सका। उस औरत ने फिर उस आदमी को दौड़ाना शुरू किया और बीच-बीच में ईंट और पत्थरों से उसकी भी खबर लेती जाती थी। वह आदमी भी ईट और पत्थर के टुकड़े उस औरत पर फेंकता था, मगर औरत, इतनी तेज और फुर्तीली थी कि उसके सब वार बराबर बचाती चली गयी, मगर उसका वार एक भी खाली न जाता था! आखिर उस आदमी ने भी इतनी मार खायी कि खड़ा होना मुश्किल हो गया और वह हताशा होकर जमीन पर बैठ गया।

बस जमीन पर बैठने के देर थी कि उस औरत ने धड़ाधट पत्थर मारना शुरू किया, यहाँ तक की वह अधमुआ होकर जमीन पर लेट गया। उस औरत ने उसके पास पहुँचकर उसका सर भी धड़ से अलग कर दिया, इसके बाद दौड़ती हुई मेरे पास आयी और बोली, ‘‘बेटी, तूने देखा कि मैंने तेरे दुश्मनों की कैसी खबर ली? मैं तो उस कमबख्त (दारोगा) को भी पत्थर मार-मारकर मार डालती, मगर डरती हूँ कि विलम्ब हो जाने से उसके और साथी न आ पहुँचे, अगर ऐसा हुआ तो बड़ी मुश्किल होगी। अस्तु, उसे जाने दे और मेरे साथ चल, मैं तुझे हिफाजत से तेरे घर या जहाँ कहेगी, पहुँचा दूँगी।

यद्यपि चाबुक की मार खाने से मेरी बुरी हालत हो गयी थी, मगर अपने दुश्मनों की ऐसी दशा देख मैं खुश हो गयी और उस औरत को साक्षात् माता समझकर उसके पैरों पर गिर पड़ी। उसने मुझे बड़े प्यार से उठाकर गले से लगा लिया और मेरा हाथ पकड़े हुए बाग की पिछली तरफ ले चली। बाग के पीछ की तरफ बाहर निकल जाने के लिए एक खिड़की थी, और उसके पास सरपत का एक साधारण जंगल था। वह औरत मुझे लिये हुए उसी सरपत के जंगल में घुस गयी। उस जंगल में उस औरत का घोड़ा बँधा हुआ था। उसने घोड़ा खोला, चारजामा इत्यादि ठीक करके उस पर मुझे बैठाया और पीछे आप भी सवार हो गयी, घोड़ा तेजी के साथ रवाना हुआ और तब मैं समझी कि मेरी जान बच गयी।

वह औरत पहर-भर तक बराबर घोड़ा फेंके चली गयी, और जब एक घने जंगल में पहुँची तो घोड़े की चाल धीमी कर देर तक धीरे-धीरे चलकर एक कुटी के पास पहुँची, जिसके दरवाजे पर दो-तीन आदमी बैठे आपुस में कुछ बातें कर रहे थे। उस औरत को देखते ही वे लोग उठ खड़े हुए और अदब के साथ सलाम करके घोड़े के पास चले आये। औरत ने घोड़े के नीचे उतरकर मुझे भी उतार लिया। उन आदमियों में से एक ने घोड़े की लगाम थाम ली और उसे टहलाने को ले गया, दूसरे आदमी ने कुछ इशारा पाकर कुटी से एक कम्बल ला बिछा दिया, और एक आदमी हाथ में घड़ा, लोटा और रस्सी लेकर जल भरने के लिए चला गया। औरत ने मुझे कम्बल पर बैठने का इशारा किया, और आप भी कमर हलकी करने के बाद उसी कम्बल पर बैठ गयी, तब उसने मुझसे कहा कि अब तू अपना सच्चा-सच्चा हाल बता कि तू कौन है, और इस मुसीबत में क्योंकर फँसी तथा वह बुड्ढा शैतान कौन था, तब तक मेरा आदमी पानी लाता है, और खाने-पीने का बन्दोबस्त करता है।

उस औरत ने दया करके मेरी जान बचायी थी, और जहाँ मैं चाहती थी, वहाँ पहुँचा देने के लिए तैयार थी, और मेरे दिल ने भी उसे माता के समान मान लिया था, इसलिए मैंने उससे कोई बात नहीं छिपायी, और अपना सच्चा-सच्चा हाल शुरू से आखीर तक कह सुनाया। उसे मेरी अवस्था पर बहुत तरस आया, और बहुत देर तक तसल्ली और दिलासा देती रही। जब मैंने उसका नाम पूछा तो उसने अपना नाम चम्पा बताया।

इतना हाल कह इन्दिरा क्षण-भर के लिए रुक गयी और कुँअर आनन्दसिंह ने चौंककर पूछा, ‘‘क्या नाम बताया चम्पा।’’

इन्दिरा : जी हाँ।

आनन्द : (गौर से इन्दिरा की सूरत देखकर) ओफ, अब मैंने तुझे पहिचाना।

इन्दिरा : जरूर पहिचाना होगा, क्योंकि एक दफे आप मुझे उस खोह में देख चुके हैं, जहाँ चम्पा ने छत से लटकते हुए आदमी की देह काटी थी, आपने उसमें बाधा डाली थी, और योगिनी का वेष धरे हाथ में अँगीठी लिये चपला ने आकर आपको और देवीसिंह को बेहोश कर दिया था।

इन्द्रजीत : (ताज्जुब से आनन्दसिंह की तरफ देखकर) तुमने वह हाल मुझसे कहा था, जब तुम मेरी खोह में निकले थे और मुसलमानिन औरत की कैद से तुम्हें देवीसिंह ने छुड़ाया था, उस समय का हाल है।

आनन्द : जी हाँ, यह वही लड़की है।

इन्द्रजीत : मगर मैंने तो सुना था कि उसका नाम सरला है!

इन्दिरा : जी हाँ, उस समय चम्पा ही ने मेरा नाम सरला रख दिया था।

इन्द्रजीत : वाह वाह, वर्षों बाद इस बात का पता लगा।

गोपाल : जरा उस किस्से को भी मैं सुना चाहता हूँ।

आनन्दसिंह ने उस समय का बिल्कुल हाल राजा गोपालसिंह से कह सुनाया और इसके बाद इन्दिरा को फिर अपना हाल कहने के लिए कहा।

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book