चन्द्रकान्ता सन्तति - 4 - देवकीनन्दन खत्री Chandrakanta Santati - 4 - Hindi book by - Devkinandan Khatri
लोगों की राय

मूल्य रहित पुस्तकें >> चन्द्रकान्ता सन्तति - 4

चन्द्रकान्ता सन्तति - 4

देवकीनन्दन खत्री

Download Book
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :256
मुखपृष्ठ : ई-पुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 8402
आईएसबीएन :978-1-61301-029-7

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

354 पाठक हैं

चन्द्रकान्ता सन्तति - 4 का ई-पुस्तक संस्करण...

चौथा बयान


भूतनाथ और असली बलभद्रसिंह तिलिस्मी खण्डहर की असली इमारतवाले नम्बर दो के कमरे में उतारे गये। जीतसिंह की आज्ञानुसार पन्नालाल ने उनकी बड़ी खातिर की और सब तरह के आराम का बन्दोबस्त उनकी इच्छानुसार कर दिया। पहर रात बीतने पर वे लोग हर तरह से निश्चिन्त हो गये तो जीतसिंह को छोड़कर, बाकी सब ऐयार जो उस खण्डहर में मौजूद थे, भूतनाथ से गपशप करने के लिए उसके पास आ बैठे, और इधर-उधर की बातें होने लगीं। पन्नालाल ने किशोरी, कामिनी और कमला की मौत का हाल भूतनाथ से बयान किया, जिसे सुनकर बलभद्रसिंह ने हद्द से ज्यादे अफसोस किया और भूतनाथ भी उदासी के साथ बड़ी देर तक सोच-सागर में गोते खाता रहा। जब लगभग आधी रात के जा चुकी तो सब ऐयार बिदा होकर अपनी-अपनी चारपाई पर जा बैठे। बलभद्रसिंह तो बहुत जल्द निद्रादेवी के आधीन हो गया, मगर भूतनाथ की आँखों में नींद का नाम न निशान था। कमरे में एक शमादान जल रहा था और भूतनाथ अन्दरवाले कमरे की ओर निगाह किये हुए बैठा कुछ सोच रहा था।

जिस कमरे में ये दोनों आराम कर रहे थे, उसमें भीतर सहन की तरफ तीन खिड़कियाँ थीं। उन्हीं में से एक खिड़की की तरफ मुँह किये हुए भूतनाथ बैठा हुआ था उसकी निगाह रमने में से होती हुई ठीक उस दालान में पहुँच रही थी, जिसमें वह तिलिस्मी चबूतरा था, जिस पर पत्थर का आदमी सोया हुआ था। उस दालान में एक कन्दील जल रही थी, जिसकी रोशनी में वह चबूतरा तथा पत्थरवाला आदमी साफ दिखायी दे रहा था।

भूतनाथ को उसी दालान और चबूतरे की तरफ देखते हुए घण्टे भर से ज्यादा बीत गया। यकायक उसने देखा कि उस चबूतरे का बगलवाला पत्थर जो भूतनाथ की तरफ पड़ता था, पूरा-का-पूरा किवाड़ के पल्ले की तरह खुलकर जमीन के साथ लग गया और उसके अन्दर किसी तरह की रोशनी मालूम पड़ने लगी, जो धीरे-धीरे तेज होती जाती थी।

भूतनाथ को यह मालूम था कि वह चबूतरा किसी तिलिस्मी से सम्बन्ध रखता है, और उस तिलिस्म को राजा बीरेन्द्रसिंह के दोनों लड़के तोडेंगे। अस्तु, इस समय उस चबूतरे की ऐसी अवस्था देख उसको बड़ा ही ताज्जुब हुआ, और वह आँखें मल-मलकर उस तरफ देखने लगा। थोड़ी देर बाद चबूतरे के अन्दर से एक आदमी निकलता हुआ दिखायी पड़ा, मगर यह निश्चय नहीं हो सका कि वह मर्द है या औरत बल्कि वह एक स्याह लबादा सर से पैर तक ओढ़े हुए था, और उसके बदन का कोई भी हिस्सा दिखायी नहीं देता था, उसके बाहर निकलने के साथ ही चबूतरे के अन्दरवाली रोशनी बन्द हो गयी, मगर वह पत्थर जो हटकर जमीन के साथ लगा हुआ था, ज्यो-का-त्यों खुला ही रहा। वह आदमी बाहर निकलकर इधर-उधर देखने लगा और थोड़ी देर तक कुछ सोचने के बाद बाहर रमने में आ गया। धीरे-धीरे चलकर उसने एक दफे चारों तरफ का चक्कर लगाया। चक्कर लगाते समय वह कई दफे भूतनाथ की निगाहों की ओट हुआ, मगर भूतनाथ ने उठकर उसे देखने का उद्योग इसलिए नहीं किया, कि कहीं उसकी निगाह मुझ पर न पड़ जाय। जिस कमरे में भूतनाथ सोया था, वह एक मंजिल ऊपर था और वहाँ से रमना तथा दालान साफ-साफ दिखायी दे रहा था।

वह आदमी घूम-फिरकर पुनः उसी तिलिस्मी चबूतरे के पास जा खड़ा हुआ और कुछ दम लेकर चबूतरे के अन्दर घुस गया, मगर थोड़ी देर बाद पुनः वह चबूतरे के बाहर निकला। अबकी दफे वह अकेला न था, बल्कि उसी ढंग का लबादा ओढ़े चार आदमी और भी उसके साथ थे, अर्थात् पाँच आदमी चबूतरे के बाहर निकले और पूरब तरफवाले कोने में जाकर सीढ़ियों की राह ऊपर की मंजिल पर गये। ऊपर की मंजिल में चारों तरफ इमारत बनी हुई थी, इसलिए भूतनाथ को यह न जान पड़ा कि वे लोग किधर गये या किस कोठरी में घुसे, मगर इस बात का शक जरूर हो गया कि कहीं वे लोग कोठरी-ही-कोठरी घूमते हुए हमारे कमरे में न आ जाँय। अस्तु, उसने एक महीन चादर मुँह पर ओढ़ ली और इस ढंग से लेट गया कि दरवाजा तथा तिलिस्मी चबूतरा इन दोनों की तरफ, जिधर चाहे बिना सर हिलाये देख सके। आधे घण्टे के बाद भूतनाथ के कमरे का दरवाजा खुला और उन्हीं पाँचों में से एक आदमी ने कमरे के अन्दर झाँककर देखा। जब उसे मालूम हो गया कि दोनों आदमी बेखबर सो रहे हैं, तो वह धीरे से कमरे के अन्दर चला आया और उसके बाद बाकी के चारों आदमी भी कमरे में चले आये। पाँचों आदमी (या जो हों) एक ही रंग-ढंग का लबादा या बुर्का ओढ़े हुए थे, केवल आँख की जगह जाली बनी हुई थी, जिसमें देखने में किसी तरह की अण्डस न पड़े। उन पाँचों ने बड़े गौर से बलभद्रसिंह की सूरत देखी, और एक ने कागज का एक लिफाफा उसके सिरहाने की तरफ रख दिया, फिर भूतनाथ के पास आया और उसके सिरहाने भी एक लिफाफा रखकर अपने साथियों के पास चला गया। कई क्षण और ठहरकर ये पाँचों आदमी कमरे के बाहर चले गये और दरवाजे को भी उसी तरह से घुमा दिया, जैसा पहिले था। उसी समय भूतनाथ भी उन पाँचों में से किसी एक को पकड़ लेने की नीयत से चारपाई पर से उठ खड़ा हुआ और कमरे के बाहर निकला, मगर कोई दिखाई न दिया। उसी जगह नीचे उतर जाने के लिए सीढ़ियाँ थीं, भूतनाथ ने समझा कि ये लोग इन्हीं सीढ़ियों की राह से नीचे उतर गये होंगे। अस्तु, वह भी शीघ्रता के साथ नीचे उतर गया और घूमता हुआ बीचवाले रमने में पहुँचा, मगर उन पाँचों में से कोई भी दिखायी न दिया। भूतनाथ ने सोचा था कि आखिर वे लोग घूम-फिरकर उसी तिलिस्मी चबूतरे के पास पहुँचेंगे, इसलिए पहिले से ही वहाँ चलकर छिप रहना चाहिए। वह अपने को छिपाता हुआ, उस तिलिस्मी चबूतरे के पास जा पहुँचा और पीछे की तरफ जाकर इसकी आड़ में छिपकर बैठ गया।

भूतनाथ को आड़ में छिपकर बैठ हुए आधे घण्टे से ज्यादे बीत गया, मगर किसी की सूरत दिखायी न पड़ी, तब वह उठकर चबूतरे के सामने की तरफ आया, जिधर का मुँह खुला हुआ था। वह पत्थर का तख्ता जो हटकर जमीन के साथ लगा हुआ था, अभी तक खुला हुआ था। भूतनाथ ने उसके अन्दर की तरफ झाँककर देखा, मगर अन्धकार के सबब से कुछ दिखायी न पड़ा। हाँ, उसके अन्दर से कुछ बारीक आवाज जरूर आ रही थी, जिसे समझना कठिन था। भूतनाथ पीछे की तरफ हट गया और सोचने लगा कि अब क्या करना चाहिए। इतने ही में अन्दर की तरफ से खड़खड़ाहट की आवाज आयी, और वह पत्थर का तख्ता हिलने लगा जो चबूतरे के पल्ले की तरह अलग हो गया था। भूतनाथ उसके पास से हट गया और वह पल्ला चबूतरे के साथ धीरे से लगकर ज्यों का त्यों हो गया। उस समय भूतनाथ यह कहता हुआ वहाँ से रवाना हुआ, ‘‘मालूम होता है, वे लोग किसी दूसरी राह से इसके अन्दर पहुँच गये!’’

भूतनाथ घूमता हुआ फिर अपने कमरे में चला आया और अपनी चारपाई पर से लिफाफे को उठा लिया, जो उन लोगों में से एक ने उसके सिरहाने रख दिया था। शमादान के पास जाकर लिफाफा खोला, और उसके अन्दर से खत निकलकर पढ़ने लगा। यह लिखा था–

‘‘कल बारह बजे रात को इसी कमरे में मेरा इन्तजार करो और जागते रहो।’’

भूतनाथ ने दो-तीन दफे उस लेख को पढ़ा और किसी लिफाफे में रखकर कमर में खोस लिया, इसके बाद बलभद्रसिंह की चारपाई के पास गया और चाहा कि उसके सिरहाने जो पत्र रक्खा गया है, उसे भी उठाकर पढ़े, मगर उसी समय बलभद्रसिंह की आँख खुल गयी और चारपाई पर किसी को झुके हुए देख वह उठ बैठा। भूतनाथ पर निगाह पड़ने से वह ताज्जुब में आकर बोला, ‘‘क्या मामला है?’’

भूतनाथ : इस समय एक ताज्जुब की बात देखने में आयी है।

बलभद्र : वह क्या?

भूतनाथ : तुम जरा सावधान हो जाओ और मुझे अपने पास बैठने दो तो कहूँ।

बलभद्र : (भूतनाथ के लिए अपनी चारपाई पर जगह करके) बैठ जाओ और कहो कि क्या मामला है?

भूतनाथ बलभद्रसिंह की चारपाई पर बैठ गया और जोकुछ देखा था, पूरा-पूरा बयान किया तथा अन्त में कहा कि पढ़ने के लिए मैं तुम्हारे सिरहाने से चीठी उठाने लगा कि तुम्हारी आँख खुल गयी, अब तुम खुद इस चीठी को पढ़ो तो मालूम हो कि क्या लिखा है।

बलभद्रसिंह लिफाफा उठा शमादान के पास चला गया और अपने हाथ से लिफाफा खोला। उसके अन्दर एक अँगूठी थी, जिस पर निगाह पड़ते ही वह चिल्ला उठा और बिना कुछ कहे अपनी चारपाई पर जाकर बैठ गया।

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book