Yaaden - Hindi book by - Naval Pal Prabhakar - यादें - नवलपाल प्रभाकर
लोगों की राय

कविता संग्रह >> यादें

यादें

नवलपाल प्रभाकर

प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :136
मुखपृष्ठ : ईपुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 9607
आईएसबीएन :9781613015933

Like this Hindi book 7 पाठकों को प्रिय

31 पाठक हैं

बचपन की यादें आती हैं चली जाती हैं पर इस कोरे दिल पर अमिट छाप छोड़ जाती हैं।



शहर


मुझे शहर रास न आया,
जिसमें फैली अद्भुत माया।

शहरों को लिया आगोश में
पश्चिमी कपड़े और पहनावे ने
आधा नग्न नारी शरीर हुआ।
मुझे शहर रास न आया,
जिसमें फैली अद्भुत माया।

आधा नग्न नारी शरीर ही
बाधक है देश की तरक्की में,
भविष्य, हर बच्चा बेकार हुआ।
मुझे शहर रास न आया ,
जिसमें फैली अद्भुत माया।

जिस्म को दिखाने की खातिर
पहनती वस्त्र कम शरीर पर
रेप सा भयानक रोग शुरू हुआ।
मुझे शहर रास न आया.
जिसमें फैली अद्भुत माया।

पहन कर भडक़ीले कपड़े
निकलती सडक़ों पर अकेले
देखें उन्हें तो देव भी हीलजां।
मुझे शहर रास न आया,
जिसमें फैली अद्भुत माया।

0 0 0

...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book