Chandrakanta Santati - 6 - Hindi book by - Devkinandan Khatri - चन्द्रकान्ता सन्तति - 6 - देवकीनन्दन खत्री
लोगों की राय

मूल्य रहित पुस्तकें >> चन्द्रकान्ता सन्तति - 6

चन्द्रकान्ता सन्तति - 6

देवकीनन्दन खत्री

Download Book
प्रकाशक : भारतीय साहित्य संग्रह प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :237
मुखपृष्ठ : ई-पुस्तक
पुस्तक क्रमांक : 8404
आईएसबीएन :978-1-61301-031-0

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

192 पाठक हैं

चन्द्रकान्ता सन्तति 6 पुस्तक का ईपुस्तक संस्करण...

।। तेईसवाँ भाग।।

 

पहिला बयान

सोहागरात के दिन कुँअर इन्द्रजीतसिंह जैसे तरद्दुद और फेर में पड़ गये थे, ठीक वैसा तो नहीं मगर करीब-करीब उसी ढंग का बखेड़ा, कुँअर आनन्दसिंह के साथ भी मचा, अर्थात् उसी दिन रात के समय जब आनन्दसिंह और कामिनी का एक कमरे में मेल हुआ, तो आनन्दसिंह छेड़छाड़ करके कामिनी की शर्म को तोड़ने और कुछ बातचीत करने के लिए उद्योग करने लगे, मगर लज्जा और संकोच के बोझ से कामिनी हर तरह दबी जाती थी। आखिर थोड़ी देर की मेहनत और चालाकी तथा बुद्धिमानी की बदौलत आनन्दसिंह ने अपना मतलब निकाल ही लिया और कामिनी भी जो बहुत दिनों से दिल के खजाने में आनन्दसिंह की मुहब्बत को हिफाजत के साथ छिपाये हुए थी, लज्जा और डर को बिदाई का बीड़ा दे, कुमार से बातचीत करने लगी।

जब रात लगभग दो घण्टे के बाकी रह गयी तो कामिनी जाग पड़ी और घबराहट के साथ चारों तरफ देखके सोचने लगी कि कहीं सवेरा तो नहीं हो गया, क्योंकि कमरे के सभी दरवाजे बन्द रहने के कारण आसमान दिखायी नहीं देता था। उस समय आनन्दसिंह गहरी नींद में सो रहे थे और उनके घुर्राटे की आवाज से मालूम होता था कि वे अभी दो-तीन घण्टे तक बिना जगाये नहीं जाग सकते। अस्तु, कामिनी अपनी जगह से उठी और कमरे की कई छोटी-छोटी खिड़कियों (छोटे दरवाजों) में से जो मकान के पिछली तरफ पड़ती थी, एक खिड़की खोलकर आसमान की तरफ देखने लगी। इस तरफ से पतित-पावनी भगवती जाह्नवी की तरल तरंगों की सुन्दर छटा दिखायी देती थी, जो उदास से उदास और बुझे दिल को भी एक दफे प्रसन्न करने की सामर्थ्य रखती थी, परन्तु इस समय अन्धकार के कारण कामिनी उस छटा को नहीं देख सकती थी, और इस सबब से आसमान की तरफ देखकर भी वह इस बात का पता न लगा सकी कि अब रात कितनी बाकी है, मगर सवेरा होने में अभी देर है, इतना जानकर उसके दिल को कुछ भरोसा हुआ। उसी समय सरकारी पहरेवाले ने घड़ी बजायी, जिसे सुनकर कामिनी ने निश्चय कर लिया कि रात अभी दो घण्टे से कम बाकी नहीं है, उसने उसी तरफ की एक और खिड़की खोल दी और तब उस जगह चली गयी, जहाँ चौकी के ऊपर गंगा-जामुनी लोटे में जल रक्खा हुआ था। उसी चौकी पर से एक रूमाल उठा लिया और उसे गीला करके अपना मुँह अच्छी तरह पोंछने, अथवा धोने के बाद रूमाल खिड़की के बाहर फेंक दिया, और तब उस जगह चली आयी जहाँ आनन्दसिंह गहरी नींद में सो रहे थे।

कामिनी ने आँचल के कपड़े से एक मामूली बत्ती बनायी और नाक में डालकर उसके जरिये से दो-तीन छींके मारीं, जिसकी आवाज से आनन्दसिंह की आँख खुल गयी, और उन्होंने अपने पास कामिनी को बैठे हुए देखकर ताज्जुब से कहा, ‘‘है, तुम बैठी क्यों हो? खैरियत तो है!’’

कामिनी : जी हाँ, मेरी तबियत तो अच्छी है, मगर तरद्दुद और सोचके मारे नींद नहीं आ रही है। बहुत देर से जाग रही हूँ।

आनन्द : (उठकर) इस समय भला कौन से तरद्दुद और सोच ने तुम्हें आ घेरा?

कामिनी : क्या कहूँ, कहते हुए भी शर्म मालूम पड़ती है?

आनन्द : आखिर कुछ कहो तो सही, शर्म कहाँ तक करोगी?

कामिनी : खैर, मैं कहती हूँ, मगर आप बुरा तो न मानेंगे।

आनन्द : मैं कुछ भी बुरा न मानूँगा, तुम्हें जो कुछ कहना है, कहो।

कामिनी : बात केवल इतनी ही है कि मैं छोटे कुमार से एक दिल्लगी कर बैठी हूँ, मगर आज उस दिल्लगी का भेद जरूर खुल गया होगा, इसलिए सोच रही हूँ अब क्या करूँ? इस समय कामिनी बहिन से भी मुलाकात नहीं हो सकती, जो उनको कुछ समझा-बुझा देती।

आनन्द : (ताज्जुब में आकर) तुमने कोई भयानक सपना तो नहीं देखा, जिसका असर अभी तक तुम्हारे दिमाग में घुसा हुआ है? मामला क्या है? तुम कैसी बातें कर रही हो!

कामिनी : नहीं नहीं, कोई विशेष बात नहीं है, और मैंने कोई भयानक सपना भी नहीं देखा, बात केवल इतनी ही है कि मैं हँसीं-हँसीं में छोटे कुमार से कह चुकी हूँ कि ‘मेरी शादी अभी तक नहीं हुई है और मैं प्रतिज्ञा कर चुकी हूँ कि ब्याह कदापि न करूँगी। अब आज ताज्जुब नहीं कि कामिनी बहिन ने मेरा सच्चा भेद खोल दिया हो और कह दिया हो कि ‘लाडिली की शादी तो कमलिनी की शादी के साथ-ही-साथ अर्थात् दोनों की एक ही दिन हो चुकी है, और आज उसकी भी सोहागरात है, अगर ऐसा हुआ तो मुझे बड़ी शर्म...

आनन्द : (ताज्जुब और घबराहट से) तुम तो पागलों की-सी बातें कर रही हो। आखिर तुमने अपने को और मुझको समझा ही क्या है? जरा घूँघट हटाकर बातें करो। तुम्हारा मुँह तो दिखायी ही नहीं देता!!

कामिनी : नहीं, मुझे इसी तरह बैठे रहने दीजिए। मगर आपने क्या कहा मैं कुछ भी नहीं समझी, इसमें पागलपने की भला कौन-सी बात है?

आनन्द : तुमने जरूर कोई सपना देखा है, जिसका असर अभी तक तुम्हारे दिमाग में बसा हुआ है और तुम अपने को लाडिली समझ रही हो। ताज्जुब नहीं कि लाडिली ने तुमसे वे बातें कही हों जो उसने मुझसे दिल्लगी के ढंग पर की थीं।

कामिनी : मुझे आपकी बातों पर ताज्जुब मालूम पड़ता है। मैं समझती हूँ कि आप ही ने कोई अनूठा स्वप्न देखा है और यह भी देखा है कि कामिनी आपके बगल में पड़ी हुई है, जिसका खयाल अभी तक बना हुआ है और मुझे आप कामिनी समझ रहे हैं। भला सोचिए तो सही कि छोटे कुमार (आनन्दसिंह) को छोड़कर कामिनी आपके पास आने ही क्यों लगी? कहीं आप मुझसे दिल्लगी तो नहीं कर रहे हैं?

कामिनी की आखिरी बात को सुनकर आनन्दसिंह बहुत बेचैन हो गये और उन्होंने घबड़ाकर कामिनी के मुँह से घूँघट हटा दिया, मगर शमादान की रोशनी में उसका खूबसूरत चेहरा देखते ही वे चौंक पड़े और बोले– ‘‘हैं! यह मामला क्या है? लाडिली को मेरे पास आने की क्या जरूरत थी! बेशक तुम लाडिली मालूम पड़ती हो? कहीं तुमने अपना चेहरा रंगा तो नहीं है?’’

कामिनी : (घबराहट के ढंग पर) आपकी बातें तो मेरे दिल में हौल पैदा करती हैं! न मालूम आप क्या कह रहे हैं और इस बात को क्यों नहीं सोचते की कामिनी को आपके पास आने की जरूरत ही क्या थी!

आनन्द : (बेचैनी के साथ) पहिले तुम अपना चेहरा धो डालो तो मैं तुमसे बातें करूँ! तुम मुझे जरूर धोखा दे रही हो और अपनी सूरत लाडिली की-सी बनाकर मेरी जान सासत में डाल रही हो! मैं अभी तक तुम्हें कामिनी समझ रहा था और समझता हूँ।

कामिनी : (ताज्जुब से आनन्दसिंह की सूरत देखकर) आपकी बातें तो कुछ विचित्र ढंग की हो रही हैं। जब आप मुझे कामिनी समझते हैं तो अपने को भी जरूर आनन्दसिंह समझते होंगे!

आनन्द : इसमें शक ही क्या है? क्या मैं आनन्दसिंह नहीं हूँ?

कामिनी : (अफसोस से हाथ मलकर) हे परमेश्वर! आज इनको क्या हो गया है!!

आनन्द : बस अब तुम अपना चेहरा धो डालो तो मुझसे बातें करो, तुम नहीं जानतीं कि इस समय मेरे दिल में कैसी अवस्था है!

कामिनी : ठहरिए ठहरिए, मैं बाहर जाकर सभों को इस बात की खबर कर देती हूँ कि आपको कुछ हो गया है। मुझे आपके पास बैठते डर लगता है! हे परमेश्वर!!

आनन्द : तुम नाहक मेरी जान को दुःख दे रही हो! पास ही तो पानी पड़ा है, अपना चेहरा क्यों नहीं धो डालतीं। मुझे ऐसी दिल्लगी अच्छी न मालूम होती है, खैर, अब बहुत हो गया, तुम उठो!

कामिनी : मेरे चेहरे में क्या लगा है, जो धो डालूँ? आप ही क्यों नहीं अपना चेहरा धो डालते! क्या मुँह में पानी लगाकर मैं लाडिली से कोई दूसरी ही औरत बन जाऊँगी? या आप मुँह धोकर छोटे कुमार बन जायेंगे?

आनन्द : (बेचैनी से बिगड़कर) बस बस, अब मैं बरदाश्त नहीं कर सकता और न ज्यादे देर तक ऐसी दिल्लगी सह सकता हूँ। मैं हुक्म देता हूँ कि तुम तुरन्त अपना चेहरा धो डालो नहीं तो तुम्हारे साथ जबर्दस्ती की जायगी फिर पीछे दोष न देना!

यह सुनते ही कामिनी घबड़ाकर उठ खड़ी हुई और यह कहती हुई कि ‘आज भोर-ही-भोर ऐसी दुर्दशा में फँसी हूँ, न मालूम दिन कैसा बीतेगा, उस चौकी के पास चली गयी, जिस पर गंगाजमनी लोटा जल से भरा हुआ रक्खा था और पास ही में एक बड़ा-सा आफताबा भी था। पानी से अपना चेहरा साफ किया और दो-चार कुल्ले भी करने के बाद रूमाल से मुँह पोंछ आनन्दसिंह से बोली, ‘‘कहिए मैं वही हूँ कि बदल गयी?’’

कामिनी के साथ-ही-साथ आनन्दसिंह भी बिछावन पर से उठकर वहाँ तक चले आये थे, जहाँ पानी और आफताबा रक्खा हुआ था। जब कामिनी ने मुँह धोकर उनकी तरफ देखा तो कुमार के ताज्जुब का कोई हद्द न रहा और वह पत्थर की मूरत बनकर एकटक उसकी तरफ देखते खड़े रह गये! इस समय खिड़कियों में से आसमान पर सुबह की सुफेदी फैली हुई हुई दिखायी दे रही थी और कमरे में भी रोशनी की कमी न थी।

कामिनी : (कुछ चि़ढ़ी हुई आवाज से) कहिए कहिए, क्या मैं मुँह धोने से कुछ बदल गयी? आप बोलते क्यों नहीं?

आनन्द : (एक लम्बी साँस लेकर) अफसोस! तुम्हारे घूँघट ने मुझे धोखा दिया। अगर मिलाप के पहिले तुम्हारी सूरत देख लेता तो धर्म नष्ट क्यों होता!

कामिनी : (जिसे अब हम लाडिली लिखेंगे, क्योंकि यह वास्तव में लाडिली ही है) फिर भी आप उसी ढंग की बातें कर रहे हैं, और अभी तक अपने को छोटे कुमार समझते हैं! इतना हिलने-डोलने पर भी आपके दिमाग से स्वप्न का गुबार न निकला। (कमरे में लटकते हुए एक बड़े आईने की तरफ उँगली से इशारा करके) अब आप उसमें अपना चेहरा देख लीजिए तो मुझसे बातें कीजिए!

कुँअर आनन्दसिंह भी यही चाहते थे। अस्तु, वे उस आईने के सामने चले गये और बड़े गौर से अपनी सूरत देखने लगे। लाडिली भी उनके साथ-ही-साथ उस आईने के पास चली गयी, और जब वे ताज्जुब के साथ उस आईने में अपना चेहरा देख रहे थे, तो बोली, ‘‘कहिए अब भी आप अपने को छोटे कुमार ही समझते हैं, या और कोई?’’

क्रोध के साथ-ही-साथ शर्मिन्दगी ने भी आनन्दसिंह पर अपना कब्जा कर लिया और वे घबड़ाकर अपनी पोशाक पर ध्यान देने लगे, मगर उसमें किसी तरह की खराबी न पाकर उन्होंने पुनः लाडिली की तरफ देखा और कहा, ‘‘यह क्या मामला है? मेरी सूरत किसने बदली?’’

लाडिली : (ताज्जुब और घबराहट के ढंग पर) क्या आप अपनी सूरत बदली हुई समझते हैं?

आनन्द : बेशक!!

लाडिली : (अफसोस के साथ हाथ मलकर) अफसोस! अगर यह बात ठीक है तो बड़ा ही गजब हुआ!!

आनन्द : जरूर ऐसा ही है, मैं अभी अपना चेहरा धोता हूँ!

इतना कहकर कुँअर आनन्दसिंह उस चौकी के पास चले गये, जिसपर पानी रक्खा हुआ था और अपना चेहरा धोने लगे। पानी पड़ते ही हाथ पर रंग उतर आया, जिस पर निगाह पड़ते ही लाडिली चौंकी और रंज के साथ बोली, ‘‘बेशक चेहरा रंगा हुआ है! हाय बड़ा ही गजब हो गया! मैं बेमौत मारी गयी। मेरा धर्म नष्ट हुआ। अब मैं अपने पति के सामने किस मुँह से जाऊँगी और अपनी हमजोलियों की बातों का क्या जवाब दूँगी! औरतों के लिए यह बड़े शर्म की बात है, नहीं नहीं, बल्कि औरतों के लिए यह घोर पातक है कि पराये मर्द का संग करें। सच तो यों है कि पराये मर्द का शरीर छू जाने से भी प्रायश्चित लगता है और बात का तो कहना ही क्या है! हाय, मैं बर्बाद हो गयी और कहीं की भी न रही। इसमें कोई शक नहीं कि आपने जान-बूझकर मुझे मिट्टी में मिला दिया!

आनन्द : (अच्छी तरह चेहरा धोने के बाद रूमाल से मुँह पोंछकर) क्या कहा? क्या जान-बूझकर मैंने तुम्हारा धर्म नष्ट किया?

लाडिली : बेशक, ऐसा ही है, मैं इस बात की दुहाई दूँगी और लोगों से इन्साफ चाहूँगी।

आनन्द : क्या मेरा धर्म नष्ट नहीं हुआ?

लाडिली : मर्दों के धर्म का क्या कहना है और उसका बिगड़ना ही क्या, जो दस-दस पन्द्रह-पन्द्रह ब्याह से भी ज्यादे कर सकते हैं! बर्बादी तो औरतों के लिए है। इसमें कोई शक नहीं कि आपने जान-बूझकर मेरा धर्म नष्ट किया! जब आप छोटे कुमार ही थे तो आपको मेरे पास से उठ जाना चाहिए था या मेरे पास बैठना ही मुनासिब न था।

आनन्द : मैं कसम खाकर कहता हूँ कि मैंने तुम्हारी सूरत घूँघट के सबब से अच्छी तरह नहीं देखी, एक दफे ऐंचातानी में निगाह पड़ भी गयी थी, तो तुम्हें कामिनी ही समझा था, और इसके लिए भी मैं कसम खाता हूँ कि मैंने तुम्हें धोखा देने के लिए जान-बूझकर अपनी सूरत नहीं रँगी है, बल्कि मुझे इस बात की खबर भी नहीं कि मेरी सूरत किसने रँगी या क्या हुआ।

लाडिली : अगर आपका यह कहना ठीक है तो समझ लीजिए कि और भी गजब हो गया! मेरे साथ-ही-साथ कामिनी भी बर्बाद हो गयी होगी। जिस धर्मात्मा ने धोखा देकर मेरा संग आपके-साथ करा दिया है, उसने कामिनी को भी जो आपके साथ ब्याही गयी है, जरूर धोखा देकर मेरे पति के पलँग पर सुला दिया होगा!

यह एक ऐसी बात थी, जिसे सुनते ही आनन्दसिंह का रंग बदल गया। रंज और अफसोस की जगह क्रोध ने अपना दखल जमा लिया, और कुछ सुस्त और ठण्डी रगों में बेमौके हरारत पैदा हो गयी, जिससे बदन काँपने लगा और उन्होंने लाल आँखें करके लाडिली की तरफ देखके कहा–‘‘क्या कहा?’’ तुम्हारे पति के पलँग पर कामिनी! यह किसकी मजाल है कि...’’

लाडिली : ठहरिए ठहरिए, आप गुस्से में न आ जाइए। जिस तरह आप अपनी और कामिनी की इज्जत समझते हैं, उसी तरह मेरी और मेरे पति की इज्जत पर भी आपको ध्यान देना चाहिए। मेरी बर्बादी पर तो आपको गुस्सा न आया और कामिनी का भी मेरा ही-सा हाल सुनकर आप जोश में आकर उछल पड़े, अपने आपे से बाहर हो गये और आपको बदला लेने की धुन सवार हो गयी! सच है, दुनिया में किसी बिरले ही महात्मा को हमदर्दी और इन्साफ का ध्यान रहता है, दूसरे पर जो कुछ बीती है, उसका अन्दाज किसी को तब तक नहीं लग सकता, जब तक उस पर भी वैसी ही न बीते। जिसने कभी एक उपवास भी नहीं किया है, वह अकाल के मारे भूखे गरीबों पर उचित और सच्ची हमदर्दी नहीं कर सकता, यों उनके उपकार के लिए भले ही बहुत कुछ जोश दिखाये और कुछ कर भी बैठे। ताज्जुब नहीं कि हमारे बुजुर्ग और बड़े लोग इसी खयाल से बहुत से व्रत चला गये हों, और इससे उनका मतलब यह भी हो कि स्वयं भूखे रहकर देख लो तब भूखों की कदर कर सकोगे। दूसरे के गले पर छुरी चला देना कोई बड़ी बात नहीं, मगर अपने गले पर सुई से भी निशान नहीं किया जाता! जो दूसरों की बहू-बेटियों को झाँका करते हैं, वे अपनी बहू-बेटियों का झाँका जाना सहन नहीं कर सकते। बस इसी से समझ लीजिए कि मेरी बर्बादी पर आपको अगर कुछ खयाल हुआ, तो केवल इतना ही कि बस कसम खाकर अफसोस करने लगे और सोचने लगे कि मेरे दिल से किसी तरह इस बात का रंज निकल जाय, मगर कामिनी का भी मेरे ही ऐसा हाल सुनकर म्यान से बाहर हो गये! क्या यही इन्साफ है और यही हमदर्दी है? इसी दिल को लेकर आप राजा बनेंगे और राज-काज करेंगे!!

लाडिली की जोश-भरी बातें सुनकर आनन्दसिंह सहम गये और शर्म ने उनकी गर्दन झुका दी। वह सोचने लगे कि क्या करूँ और इसकी बातों का क्या जवाब दूँ! इसी समय कमरे का दर्वाजा खुला (जो शायद धोखे में खुला रह गया होगा) और इन्द्रदेव की लड़की इन्दिरा को साथ लिये हुए कामिनी आती दिखायी पड़ी।

लाडिली : लीजिए, कामिनी बहिन भी आ पहुँचीं! ताज्जुब नहीं कि ये भी अपना हाल कहने के लिए आयी हों, (कामिनी से) लो बहिन, आज हम तुम्हारे बराबर हो गए!

कामिनी : बराबर नहीं बल्कि बढ़के!!


...पीछे | आगे....

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ अगला पृष्ठ >>

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book